शुक्रवार, जुलाई 06, 2012

कौनसी है वो खुशबु जो तुम्हारे मन को महका जाए ?


तुमको पाकर दुनिया बिलकुल नयी सी हो गयी...ऐसा नहीं तुम पहले बार मिले हो पर इस तरह बस इस बार मिले...अब कोई उलझन मुझे उलझती नहीं अब कोई परेशानी मुझे डरती नहीं...सांस लेती हूँ तो पूर्णत जीवंत होने का अहसास पाती हूँ....लोगों की बातें, लोगों के ताने कुछ मुझ तक पहुच नहीं पाते...जब भी तैयार होने को आईने के सामने खड़ी होती हूँ...सोचती हूँ कौनसा रंग है जो तुम्हे रुचेगा...कौनसी लिपस्टिक है जिसे मेरे होठो पे देख तुम उसको चखने को मचल उठो....कौनसा परफुमे है जो तुम्हे बस मेरे होने का अहसास दिलाएगा...कोई ऐसे सुगंध जो बस मेरी ही हो...ralph lauren का रोमांस क्या तुम्हारी साँसों को गुलाबी गुलाबों की खुशबु से महका पायेगा....Elizabeth arden का मेरा पसंदीदा इत्र तुम्हे सुबह से ताजगी दे पायेगा...Burberry का चन्दन, मोगरे से खुशबु का मेरा नया इतर तुम्हारी साँसे सुवासित कर पायेगा ....jenifer lopez का एकदम नया निकला लिमिटेड एडिशान जिसकी खुशबु दावा करती है किसी को भी अपनी और खीचने की तुम्हे खीच पाएगी...Britney Spears का fantacy क्या तुम्हे जादुई दुनिया में ले जा पायेगा....Lancom का attraction क्या तुमको मेरी और आकर्षित रख पायेगा...Obession by Calvin Kevin जो पिछले लगभग तीन दशको से इत्र की दुनिया में राज कर रहा अहै क्या तुम्हारे दिल को भी छु पायेगा...Givenchy का अब तक का सबसे सेंसुअल perfume क्या तुम्हे भी इंसानी दुनिया से दूसरी दुनिया में ले जा पायेगा....बस यही सोच कर मैं और भी जाने कितने इत्र लगाती हूँ पर सबको हटा देती हूँ...कोई खुशबू नहीं जो मेरे मन को छु पाए...आँख बंद कर मैं एक गहरी सांस लेती हूँ तो मेरा मन कहता है तुम्हारी सांस को महका पाए,तुम्हे हर पल बस मेरे होने का अहसास दिलाये वो मेरी अपनी खुशबू ही हो सकती है...इस खुशबु को कोई भी bottled नहीं कर सकता सिर्फ तुम उसको महसूस कर सकते हो...तुम्हे चाहिए भी तो सब जो सिर्फ तुम्हारा हो तुम्हारे लिए हो...तो बस एक मेरी ही खुशबू ही जो बस तुम्हारी है.

शुक्रवार, मई 04, 2012

यादों की कोई एक्सपायरी डेट नहीं होती



क्या यादों की कोई एक्सपायरी डेट नहीं होती? क्यूँ कुछ लोग साल दर साल याद आते रहते हैं....चाहो ना चाहो याद जाने कहाँ से इतने पहरेदारों, कैमरों के बाद भी अन्दर घुस ही जाती है और फिर कहीं छुप के ऐसे कहीं बैठ जाती है की कितने ही जासूस, पुलिस पीछे लगा दो मिलती ही नहीं...ईश्वर से कितनी ही प्राथना करो...मंदिरों मस्जिदों पर मन्नत का धागा बांधो...की मोलवी से ताबीज़ बंधवा लूं ...कुछ नही होता ...किसी ने कहा इक्कीस दिन मंदिर जाओ और हमने भी बिना नागा रोज ईश्वर के दरबार में हाजिरी दी पर एकीसवें दिन तक लगा ईश्वर ने तो हमें उनको ना भूलने का वर दे डाला...कहीं ईश्वर तुमने मेरी प्राथना गलत तो नहीं सुन ली ...या मेरे ही शब्द जबान से निकलते समय मुझसे दगा कर गए....किसी ने कहाँ पहाड़ी वाले पीर बाबा से ताबीज़ बंधवा लो वो तुम्हारी याद के प्रेत को की आत्मा जो भी हो उससे मुझे दूर रखेगा...पहाड़ी पर चढ़ते चढ़ते पैर छिलने लगे पर तुम्हारी याद का दर्द इन छालों से कहीं ज्यादा था.... पीर बाबा तुमने ताबीज़ बांधते वक़्त ये कौनसा मंत्र फूंका की उसकी याद जूनून बन गयी...और अब पहले से ज्यादा हर पल साथ है...साया भी दिन ढलने पर साथ छोड़ देता है पर याद तो दिन के चोबीस घंटे , हर घडी साथ ही रहती है...एक दोस्त ने कहा किसी और से मिल कर देखो कौन जाने मन से उसकी यादें धुंधला जाएँ....सही ही कहा था धुंधला तो गयी थी मेरी आँखे ...लगता था अब याद मेरा पीछा छोड़ देगी पर जब सूरज निकला और धुंध हटी तुम्हारी यादें पहले से भी ज्यादा शिद्दत से साथ हो ली...एक दिन मैंने तुम्हारी पसंद के सब दुपट्टे निकाले... और ऐसे रंगों में रंगवाये जिनसे तुम्हारी कोई याद पसंद ना छलके ...पर रंगरेज मेरे तूने ये किस जनम का बदला लिया, तूने ये कौनसा रंग डाला की हर रंग तुम्हारा ही लगता है...मेरे पहले से ज्यादा करीब हो जाता है..जब भी चुनर ओढ़ी और खुद को देखा तुम्हारी नज़रें अपने ऊपर ही पायी....बार बार धोया हर रंग मैंने पानी में...पर पानी ने भी हर रंग को और शोख बनाया....जितना धोया उतना ये मुझपे और चढ़ता गया... सारी नदिया तुम्हारे ही रंग में रंग गयी....कहीं तुमने तो रंगरेज को रिश्वत नहीं दी इश्क का रंग चढ़ने को... की तुमने नदिया को अपने हाथों से छु प्रेममय होने का वरदान दे डाला ?

बुधवार, अप्रैल 25, 2012

यूँ भी कोई रूठता है ?


तुम्हारा ऐसे चले जाना
बिलकुल नहीं अच्छा लगा मुझे
एक मेसेज कर दिया की
बस अब मुझसे बात ना करना
हमारा रिश्ता खतम
तुम्ही कहो जान
ऐसे भला कोई रूठकर जाता है
जीवन भर के लियें ?

नहीं देती मैं दुहाई
तुम्हारे वायदों की
ना ही देती मैं दुहाई तुम बिन
जीकर भी ना जी पाने की
गर रूठो तो मुझे
मनाने का मौका भी दो,
मैं गलती करूँ कोई तो
सजा देने का अधिकार भी तुम रखो

नहीं कोई गलती ऐसी जहाँ में
जो तोड़ दे इश्क की डोर
नहीं कोई सजा बनी इस जहाँ में
की मेरा ईश्वर ही मुझे छोड़ चल दे !


गुरुवार, अप्रैल 19, 2012

:)



मुझमे अजब सी बैचैन छाई है
शायद ये हवा तुझे छूकर आयी है :)

मंगलवार, अप्रैल 10, 2012

शब्द


शब्दों में ढालनें से,
अपने ज़ज्बातों को डरती थी मैं,
अपने कहीं तज ना दे,
जब मिली तुमसे,
की पहली बार कोशिश,
शब्दों को गुनने की,
पर जब तुम मुझे तज चल दिए,
मेरा शब्दों से साथ सदा के लिए छूट गया !

सोमवार, जनवरी 02, 2012


एक पल ना ठहरी नींद मेरी आँखों में
तेरी यादें मोगरे सा तन महकाती रही
और मेरे मन से नज़में बहती रही

मंगलवार, दिसंबर 20, 2011

एक दोपहर कांफ्रेस के खाने के नाम



समाजशास्त्र का राष्ट्रीय इस बार जे.न.यु हमारे ही विश्वविद्यालय में था....कांफ्रेंस में दोपहर के खाने की कतार देखकर हम तो डर ही गए और स्कुल की कैंटीन का रास्ता नापने लगे अचानक राह में एक दोस्त मिल गयी बोली चल यार खाना खाते हैं मैंने कहा हाँ चलो खाते हैं कैंटीन में आज तुम्हे बटाटा कान्धा परांठा खिलते है मुंबई छाप. सहेली बोली तेरा सर फिर गया है चल चुपचाप कन्वेंशन सेंटर वहीँ खाना है आज चोथा दिन है और तुम रोज रात को खाती नहीं यहाँ और दिन में कैंटीन... आज तो खाना ही पड़ेगा और हम साथ हैं चल आजा. अब क्या करते...चल दिए कन्वेंशन सेंटर की तरफ!

वहां तो पूरा एक मेला लगा था रोज सुनते थे कोई ३००० लोगों ने हिस्सा लिया है पर यहाँ तो उससे दुगुने लोग थे. पर ऋतू की समझदारी के चलते हम भी एक लाइन का हिस्सा हो लिए. अचानक ऋतू की चिल्लाहट सुनी बोली हाय राम मेरे मुह को, हाथो को क्या हो गया ये लाल लाल दाने....हमने कहा अरे हाँ तुझे तो तेज धुप से अलेर्जी है ना...अब हास्टल जाके बरफ लगाना... ऊपर प्रचंड सूरज सर पर था और आज तुने सनस्क्रीन भी नहीं लगा के आये हाय अल्लाह ऋतू की बच्ची तेरा क्या होगा...हमने कहा अपना दुपट्टा ढक लो तो उसने तुनक कर कहा वह जी खुद ऐसे ही घुमो हमें जोकर बना दो...हमने कहा अरे ऐसा नहीं है देखो हम भी कर रहे हैं ना और दुपट्टे का घूँघट कर लिया..जे.न.यु.के होने का एक फायदा है अब हमको किसी के कुछ कहने से फरक नहीं पड़ता...जैसे अच्छा लगे पहनो रहो....अब कोई कुछ भी सोचे हमारी बला से....पर ऋतू कहाँ चैन लेने देगी हमें मैडम का फरमान आया सुन अपना झोला हमें दे हमें करें लेना है...हमने कहा ले लो भाई पूरा हम तो पहले ही थके हैं तुम्ही पकड़ो इस बोझे को और ढूढ़ लो क्रीम क्राम जो चाहिए. ऋतू हमरे झोले को टटोलती रही और बोली अरे इसमें वो तुम्हारा "इम्पोर्टेड अमेरिका वाला" धूप से बचने वाला क्रीम कहाँ गया ? एक पल को लगा उसने हमारी दुखती राग पर हाथ रख दिया हमने कहा अरे यार वो तो हम जब यहीं रहते थे तब रखते थे अब आज हम अपना रोज का झोला तो लाये नहीं उसमे ही घर पे रह गया होगा. तू भी ना एकदम बेवकूफ है रोज जब सेंटर आएगी तब लाती है आज ये खुले मैदान में सनस्क्रीन नहीं लायी...हमारा पूरा ध्यान इधर कतार पर था आगे खिसके वरना हमारा तो खाने के बाद का सेशन रह जायेगा...पर ये लाइन थी की हिलने का नाम ही नहीं ले रही थी...इतने में हमारा ध्यान गया की कुछ लोग बार बार हमारी लाइन के पास आते हैं और अटक जाते हैं जिससे हम एक जगह अटके थे...एक दो लोग आगे बढे तो हमने देखा वो पानी पीने वाले थे..पर सबा परेशान और लगे गलियां जे. न.यु . को देने ..हमने देखा नल में पानी नहीं था और बिसलरी का कैन लगभग खतम था पर उसके नीचे एक पूरा भरा कैन रखा था...लोग भाषण खूब कर रहे थे पर कोई पानी के लिए कुछ नहीं कर रहा था...सब बस भाषण कर रहे थे और लाइन में लगे लोगों का ध्यान सिर्फ खाने तक पहुचना था...अब हम पानी के पास तक पहुच चुके थे हमने ऋतू को कहा तुम हमारा झोला पकडे रहो अभी तो बहुत देर में नम्बर आएगा और हमने पानी की कैन को टेढ़ा कर दिया और लोग पानी पीने लगे ....कुछ ने हमें दुआ दी और कुछ ने कहा कितना खराब इन्तेजाम है पानी तक नहीं मिल रहा इस कांफ्रेंस में नॉन- व्हेज खाना तो दूर...ये है जे.न. यु. की असलियत भला हो इस लड़की का वरना हम गर्मी में प्यासे मर रहे हैं...अब तक ऊपर रखी कैन का पानी खतम हो चूका था हमने नीचे से कैन उठाया और उसको लगाया और मुस्कुरा के कहा हाँ भाई यही है यहाँ की असलियत हम यहीं के पढ़े हैं और हमको यही सीखाया है की कोई काम छोटा नहीं होता ...लक्ष्य पर ध्यान रखो पर किसी के ऊपर पैर रखके आगे ना बढ़ो....तभी एक लड़का बोला अरे पहले मुझे पानी दो मुझे पेपर पढना है रिसर्च पेपर इन सब बातों में लगूंगा तो क्या खाक पेपर पढूंगा मैडम मैंने खुद जाके काम किया है फिल्ड में....दो चार लोगों ने उसको नजर उठाके देखा...और हमने एक पानी का ग्लास उसकी और बढ़ाते हुए कहा...श्रीमान लगता है आप रिसर्च की कक्षा का पहला सबक ही भूल गए...जब फिल्ड में जाए तो अपनी आँख कान सब खुला रखे...जो बातें बातचीत के दोरान नहीं पता चलती वो अवलोकन से पता चलती है...ज़िन्दगी भी तो एक रिसर्च है जहाँ हर मोड़ पे नए टोपिक हैं...इतने में फिर ऋतू ने हाथ खीचा और बोली हो गया ना पानी लगाया ना अब चल लाइन कितनी आगे बढ़ गयी...हम थोडा ही आगे बढे की लाइन फिर अटक गयी...ऋतू को एक फ़ोन आ गया वो बोली हम आते हैं और दोस्त आये हैं जगह रोके रखना...नम्बर आये तो प्लेट ले लेना...

हमारे आगे एक श्रीमान एकदम सूट बूट में राजा बाबू बनके तैयार थे हमें देखकर मुस्कुराए इतने में पीछे खड़े लडको ने उनसे हाय हल्लो की...और कहाँ हम आपसे मिले थे आपका नम्बर दे दे वगेरह वगेरह ....जैसे ही वो लड़के निबटे बात चीत करके ये श्रीमान जी अंग्रेजी में बोले हम अलीगढ विश्वविद्यालय से आये हैं अभी देखा हमने कैसे आपने पाने की समस्या निबटाई.. हमने हल्का सा मुस्कुरा कर कहा समस्या जैसा कुछ नहीं था...अब श्रीमान जी हमारी जनम कुंडली बनाने की फिराक में थे की इतने में ऋतू ने आके बचा लिया ..उसके हाथ में आइस क्रीम थी बोली जल्दी खा ले बहुत गर्मी है ...हमने उसकी और कृतज्ञता से देखा और इशारे में कहा शुक्रिया हमें बचने के लिए ...पर ये श्रीमान जी एक पल को रुके फिर हमसे बोले आज धूप बहुत तेज है...हम चुप ही रहे की अब कुछ बोला तो ये हमारी सात जन्मो की कुंडली बना ही लेगा...दो मिनट की विराम के बाद महानुभाव फिर बोले आज जरा गर्मी तेज ही है ...और हम दोनों की और देख के मुस्कुरा कर बोले और खासकर लड़कियों के लिए ...हमने देखा ऋतू बस आँखों से बरसती आग को अपनी जबान पर लाने ही वाली थी की हमने उसका हाथ पकड़ा और और पिछले आधे घंटे से ये श्रीमान जो पीछे वाले लडको पर रोब जमाना चाहते थे की देखो लड़की वो भी जे.न.यु की पढने वाली को हम कैसा शीशे में उतारते है.... को देखते हुए मुस्कुरा कर कहा...अरे अभी तक तो हमें पता ही नहीं था हम तो कुछ और ही समझ बैठे थे....अच्छा हुआ आपने अपना परिचय हमें खुद दे दिया...... की आप लड़की है :D
 

Template by Suck My Lolly - Background Image by TotallySevere.com